आचार संहिता का उल्लंघन, कमल को उकेरा बड़े स्तर पर

नई दिल्ली: 2019 के संसदीय चुनाव के ऐलान के साथ ही आचार संहिता उल्लंघन, उत्तर प्रदेश के इटावा जिले में हुआ है। इटावा में प्राथमिक स्कूल की शक्ल में बनाये गए 80 फ़ीसदी मतदान केंद्र सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के चुनाव चिन्ह कमल का प्रचार करते हुए नजर आ रहे हैं। यह आरोप कांग्रेस पार्टी के जिलाध्यक्ष उदयभान सिंह यादव ने आज चुनाव आयोग को भेजी अपनी शिकायत में लगाया है।

श्री सिंह ने बताया कि इटावा जनपद में लोकसभा चुनाव के लिए बनाए गए अस्सी प्रतिशत मतदेय स्थल बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक विद्यालयों में है। इन सभी विद्यालयों में भारतीय जनता पार्टी के चुनाव चिन्ह कमल को भी बड़े स्तर पर उकेरा गया है। जिस में आचार संहिता उल्लंघन स्पष्ट परिलक्षित होता है जबकि किसी भी मतदेय स्थल के 200 मीटर की परिधि में किसी भी राजनीतिक दल के प्रचार प्रसार की अनुमति नहीं दी जा सकती है लेकिन इटावा जनपद में भारतीय जनता पार्टी का प्रचार प्रसार स्वयं प्रशासन कर रहा है।

इटावा जनपद की कुल 3 विधानसभाओं में 199 जसवंतनगर में 448 मतदेय स्थलों के सापेक्ष 397 तथा 200 इटावा सदर में 430 मतदेय स्थलों के सापेक्ष में 281 इसके अलावा 201 भरथना सुरक्षित में 483 मतदेय स्थलों के सापेक्ष 441 मतदेय स्थल प्राथमिक विधायलो में बनाये गए है ।

कांग्रेस अध्यक्ष ने अपनी शिकायत के संदर्भ में चुनाव आयोग से अनुरोध किया है कि तत्काल कार्रवाई कर आचार संहिता का पालन सुनिश्चित कराएं जिससे लोकसभा चुनाव निष्पक्ष संपन्न हो सके । इसके ठीक विपरीत इटावा के जिलाधिकारी जितेंद्र बहादुर सिंह बताते हैं कि चुनाव आयोग ने स्पष्ट निर्देश दिया हुआ है कि कहीं पर भी आचार संहिता उल्लंघन का मामला अगर सामने आता है तो प्रशासन पर त्वरित से संज्ञान में लेकर के इस पर कार्रवाई सुनिश्चित करेगा ताकि संसदीय चुनाव को निष्पक्ष संपन्न कराया जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *