संविदा सफाईकर्मी धरना 7वें दिन भी, क्रमिक भूख हड़ताल शुरू

नोएडा:  सेक्टर-30 स्थित जिला अस्पताल में संविदा पर रखे गए 42 सफाईकर्मियों ने फिर से पुराना वेतन बहाल करने की मांग को लेकर 1 दिसंबर से हड़ताल पर हैं और अब क्रमिक भूख हड़ताल भी शुरू कर दी है। सफाईकर्मियों की हड़ताल के बाद अस्पताल में जहां-तहां कचरा फैला दिखाई देने लगा है। इससे इलाज के लिए आ रहे मरीज और उनके साथ आए तीमारदार के लिए गंदगी से बीमारी फैलने का खतरा बढ़ गया है। उधर, जिला अस्पताल प्रशासन झुकने का नाम नहीं ले रहा है।

सफाईकर्मियों की हड़ताल से सफाई व्यवस्था ध्वस्त

जिला अस्पताल में सिर्फ 9 स्थायी सफाई कर्मचारी हैं। इससे पूरे अस्पताल और हर विभाग की सफाई संभव नहीं है। अस्थायी कर्मचारी के हड़ताल के चलते जिला अस्पताल में जगह-जगह कूड़ा-कचरा दिखने लगा है। ओपीडी, लिफ्ट, सीढ़ी से लेकर शौचालयों तक बदबू आने लगी है। इससे मरीज से लेकर तीमारदार परेशान होने लगे हैं।

पुलिस सुरक्षा में बाहर लाए गए सफाईकर्मी

जिला अस्पताल के जिला चिकित्सा अधीक्षक डॉ. अजेय अग्रवाल ने सफाईकर्मियों के हड़ताल को बेतुका करार देते हुए 3 दिसंबर को हड़ताल कर रहे सफाईकर्मचारियों को पुलिस बुलाकर अस्पताल परिसर से करा दिया। तब से कर्मचारी अस्पताल के गेट पर टेंट लगाकर धरने पर बैठे हैं। सफाई कर्मचारियों की मांग मानने के बजाए जिला प्रशासन ने अस्पताल की सफाई के लिए सफाईकर्मचारी बुला लिए। धरना दे रहे कर्मचारियों ने इसका विरोध किया तो मौके पर पुलिस को बुला लिया गया। पुलिस की सुरक्षा में अस्पताल की सफाई कराई जा रही है। इससे धरना दे रहे सफाईकर्मियों में काफी आक्रोश है।

राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग दे चुका है मामले की जांच के आदेश

राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग के राष्ट्रीय अध्यक्ष वजू भाई जाला 22 नवंबर, 2018 को एक दिवसीय दौरे पर नोएडा आए थे। वह प्राधिकरण, जिला प्रशासन और सफाई कर्मचारियों के प्रतिनिधियों के साथ समस्याओं और इसके समाधान के लिए आयोजित बैठक की अध्यक्षता भी की थी। इस बैठक में जिला अस्पताल के सफाई कर्मचारियों की सैलरी का मुद्दा उठा था। आयोग के अध्यक्ष जाला ने कहा था कि कैसे किसी के वेतन को 11 हजार से 6500 किया जा सकता है, यह तो सरासर अन्याय है। साथ ही उन्होंने नोएडा प्राधिकरण के एसीईओ आरके मिश्र से मामले की जांच कराने को कहा था लेकिन अब तक मामले की जांच नहीं हुई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *