गंगा में डुबकी लगाते हुए बीजेपी के चाणक्य दिखे विपक्षिओं के साथ

नोएडा: भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के अध्यक्ष अमित शाह प्रयागराज में बुधवार को कुंभ मेले में हिस्सा लेंगे। इस दौरान वह पवित्र संगम में डुबकी लगाएंगे और संत समाज के अलग-अलग समूहों से मुलाकात करेंगे। यही नहीं, शाह अपने दौरे के बाद यह भी तय करेंगे कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यहां कब आएंगे।  अमित शाह का आगामी लोकसभा चुनाव से पहले संतों से मिलना काफी अहम माना जा रहा है।

असल में राम मंदिर के मुद्दे पर संत समाज भाजपा से नाराज चल रहा है। हालांकि कुंभ की धर्म संसद ने भाजपा को और छह महीने का समय दे दिया। लेकिन संत समाज भाजपा से कोई ठोस वादा चाहता है। ताकि देश में फिर से भाजपा की सरकार बन जाने के बाद अयोध्या में मंदिर निर्माण का कार्य शुरू हो सके। लिहाजा संतों की नाराजगी को दूर करने के लिए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह आज प्रयागराज में चल रहे कुंभ में स्नान करेंगे और संतों से मिलेगे, ताकि संतों की नाराजगी राम मंदिर को लेकर दूर की जा सके। अभी तक अमित शाह कुंभ नहीं गए हैं। जबकि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सबसे पहले कुंभ जा चुके हैं और योगी सरकार कुंभ में कैबिनेट बैठक भी कर चुकी है।  साथ ही बीजेपी अध्यक्ष  पुरी के शंकराचार्य निश्चलानंद सरस्वती से भी मिलेंगे। शाह जूना, निरंजनी, निर्मोही अखाड़ा जाएंगे, मौज गिरी आश्रम में 151 फीट ऊंचे त्रिशूल का लोकार्पण करेंगे। अमित शाह के साथ यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ और डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या मौजूद रहेंगे। खबरें ये भी हैं कि समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता अमित शाह के कुंभ दौरे का विरोध करने की तैयारी में हैं।

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की यात्रा ऐसे वक्त में हो रही है जब विभिन्न हिन्दुत्व समूह सरकार से अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए कानून बनाने की मांग कर रहे हैं। बीजेपी अध्यक्ष ने कई बार कहा है कि पार्टी मंदिर निर्माण के लिए प्रतिबद्ध है। राम मंदिर-बाबरी मस्जिद की जमीन की मिल्कियत का मामला सुप्रीम कोर्ट में लंबित है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *