हल्द्वानी में चल रहा बच्चों की शिक्षा के साथ खिलवाड़

नई दिल्ली: उत्तराखंड प्रदेश के शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे जहां विद्यालयी शिक्षा को और मजबूत करने की बात करते हैं। लेकिन प्राइमरी स्कूलों में सर्व शिक्षा अभियान के तहत मिलने वाली किताबों और ड्रेस का पैसा अब तक अभिभावकों को नहीं दिया गया है। वर्ष 2018-19 का शिक्षण सत्र समाप्त होने वाला है लेकिन न तो किताबों का पैसा मिला और ना ही ड्रेस का भुगतान छात्रों के खाते में किया गया है। अधिकारियो के मुताबिक खंड शिक्षा अधिकारी और ब्लॉक शिक्षा अधिकारी की लापरवाही के चलते, नैनीताल जिले के स्कूलों के हजारों बच्चों के किताबों और ड्रेस का भुगतान नहीं हो पाया है।

              हालांकि प्रभारी अपर निदेशक का कहना है कि शासन से उनको बजट मिल चुका है लेकिन खंड शिक्षा अधिकारी और ब्लॉक शिक्षा अधिकारी की लापरवाही की वजह से पूरे जिले में करीब दो करोड़ रुपये का बजट अभिभावकों और छात्रों के खाते में नहीं पहुंच पाया है। कई जगह छात्रों के बैंकों में खाते नहीं खुले हैं लेकिन विभाग की संवेदनशीलता के चलते खंड शिक्षा अधिकारी और ब्लॉक शिक्षा अधिकारी को नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण मांगा गया है। गौरतलब है कि पिछले वर्ष अप्रैल में शुरू हुए शिक्षण सत्र का बजट छात्रों को इस वर्ष फरवरी में भी नही मिल पाया है, जब कि अगले माह परीक्षा है और फिर अगला शिक्षण सत्र शुरू हो जाएगा ऐसे में शिक्षा विभाग के लापरवाही की वजह से छात्रों का भविष्य अंधकार में दिखाई दे रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *