हरयाणा में बोरेवेल में गिरे बच्चे का रेस्क्यू ऑपरेशन अभी भी जारी

नई दिल्ली: हरियाणा के हिसार जिले में 60 फीट गहरे बोरवेल में फंसे डेढ़ साल के बच्चे को निकालने का काम अभी भी जारी है। पिछले 47 घंटे से रेस्कयू ऑपरेशन चल रहा है। मौके पर सेना के जवान, एनडीआरएफ की दो टीमें, पुलिस बल, प्रशासनिक अधिकारी, जिले के आला अफसर व काफी संख्या में लोग मौजूद हैं। जिले के गांव बालसमंद से करीब आधा किलोमीटर दूर स्थित ढाणी के पास बने बोरवेल में बुधवार शाम पांच बजकर 20 मिनट पर डेढ़ साल का मासूम नदीम गिर गया। आनन फानन में रेस्कयू ऑपरेशन शुरू किया गया, जो अब तक चल रहा है।

10 दिन पहले तेलूराम ने खुदवाया था बोरवेल
ग्रामीणों के अनुसार, जिस जगह पर बोरवेल खोदा गया है, वह पंचायती जमीन है। बोरवेल गांव के तेलूराम ने दस दिन पहले खुदवाया है। बोरवेल को खोदने के बाद खुला छोड़ दिया गया। न तो उसे ढका गया और न ही सुरक्षा के अन्य प्रबंध किए गए।

ढाणी के पास में ही बेर का पेड़ है। उसके पास ही बोरवेल खोदा गया था। नदीम की मां व अन्य बच्चे बेर खाने चले गए। साथ ही अंगुली पकड़कर नदीम भी चला आया। इसी बीच वह बोरवेल में गिर गया। फोन पर जैसे ही मासूम नदीम के पिता को जानकारी मिली वेसे ही वह तुरंत ढाणी आ गये।

बेर खाने के लिए गया था
नदीम अपनी मां, बड़ी बहन, बड़े भाई व तीन-चार अन्य बच्चों के साथ बेर खाने के लिए गया था। खेलते-खेलते अचानक वह इस बोरवेल में गिर गया। उसके चिल्लाने की आवाज सुनकर बाकी सभी को पता चला कि वह बोरवेल में गिर गया। नदीम के बोरवेल में गिरते ही अन्य बच्चों ने चिल्लाना शुरू कर दिया। शोर सुनकर आसपास खेतों में काम कर रहे किसान और परिजन मौके पर पहुंचे।

उन्होंने घटना की सूचना बालसमंद चौकी पुलिस व सदर थाना पुलिस के पास दी। हालात देखते हुए सेना को बुलाया गया। सेना की टीम ने जेसीबी से बोरवेल के आसपास खुदाई शुरू की। फायर ब्रिगेड की गाड़ी के अलावा आर्य नगर और बालसमंद से एंबुलेंस भी मंगवा ली गई। आर्यनगर सीएचसी के एसएमओ अपनी टीम के साथ मौके पर डटे हैं।

बच्चे के बोरवेल में गिरने की सूचना मिलते ही प्रशासनिक टीम मौके पर पहुंच गई। आर्मी की भी मदद ली गई है। आर्मी ने पूरा प्लान बनाकर जेसीबी से खुदाई शुरू कर दी है। अशोक कुमार मीणा, उपायुक्त, हिसार का कहना है की बच्चे को सुरक्षित बोरवेल से बाहर निकालना ही हमारे लिए प्राथमिकता है। उसके बाद जांच होगी कि घटनाक्रम कैसे हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *