PM मोदी: “यदि नेहरू की जगह पटेल देश के पहले पीएम होते तो तस्‍वीर कुछ और होती”

नई दिल्ली: दिल्ली के रामलीला मैदान में भारतीय जनता पार्टी के राष्‍ट्रीय अधिवेेशन को संबोधिक करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कांग्रेस पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि देश ने 2004 से 2014 के बीच के 10 साल घोटालों में गंवा दिए। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार यदि नेहरू की जगह पटेल देश के पहले प्रधानमंत्री होते तो देश की तस्‍वीर कुछ और होती, उसी प्रकार यदि 2004 के बाद अटल जी देश के प्रधानमंत्री चुने जाते तो देश का स्‍वरूप कुछ और ही होता। उन्होंने कहा कि कभी 2 सांसदों वाली पार्टी की आज इतनी बड़ी बैठक हो रही है। यह ऐतिहासिक है। यह पहली बैठक है जो अटल जी के बिना हो रही है। वह जहां से भी हमें देख रहे होंगे उन्हें भी संतोष हो रहा होगा। मैं कामना करता हूं कि पार्टी के सभी कार्यकर्ता पर उनका आशीर्वाद बना रहे।

प्रधानमंत्री ने कहा कि हम इस बात को गर्व के साथ बोल सकते हैं कि देश के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है जब सरकार पर भ्रष्टाचार का एक भी आरोप नहीं लगा है। केंद्र में भाजपा में भाजपा सरकार है और देश के 16 राज्यों में हम या तो सरकार चला रहे हैं या सरकार के सहयोगी हैं। इसमें आप सभी का सहयोग मूल्यवान है। पीएम मोदी ने अटल जी को याद करते हुए कहा कि यह राष्ट्रीय परिषद की पहली बैठक है जो अटल जी के बिना हो रही है। वो आज जहां से भी हमें देख रहे होंगे, उन्हें अपने बच्चों की इस ऊर्जा औ राष्ट्र के प्रति समर्पण को देखकर संतोष हो रहा होगा।

मोदी ने कहा कि बीजेपी सरकार ने स्वामीनाथन आयोग की सिफारिश को स्वीकृत किया और किसानों की मांगों को माना गया। जब हमारी सरकार नहीं थी तब दाल की कीमतों को लेकर हंगामा होता रहता था, लेकिन हमारी सरकार के दौरान टीवी चैनलों पर दाल की कीमतों को लेकर ब्रेकिंग न्यूज नहीं मिल रही है। साल 2022 तक किसान अपनी आय दोगुनी करने के लिए साधन जुटा सकें इसके लिए हम लगातार प्रयास कर रहे हैं। हमनें हमेशा सीखा है कि स्वयं से बड़ा दल और दल से बड़ा देश होता है। यही हमारे संस्कार हैं। विरोधी कहते हैं हमनें सिर्फ योजनाओं के नाम बदले हैं सभी पुरानी हैं, मैं ऐसे लोगों से ये जानना चाहता हूं कि कितनी योजनाएं ऐसी हैं जो मेरे नाम से चल रही हैं।

पीएम ने कहा कि जब हम किसानों की समस्या की बात करते हैं तो पहले की सच्‍चाई को स्वीकार करना जरूरी है। पहले जिनके पास किसानों को संकट से बाहर निकालने की जिम्मेदारी थी उन्‍होंने अन्नदाता को सिर्फ और सिर्फ मतदाता बना रखा था। हम अन्नदाता को मतदाता ही नहीं ऊर्जादाता भी बनाने जा रहे हैं। इसके लिए व्यसव्था बनाने पर काम जारी है। देश का किसान इस बात का साक्षी है कि लागत का 1.5 गुना मूल्‍य की मांग कितने दशकों से चल रही थी, पहले ये बात फाइलों में दबा दी जाती है।पीएम मोदी ने कहा कि दफ्तरों में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाई जा रही है। मेटरनिटी लीव भी 12 से बढ़ाकर 26 हफ्ते की गई है। महिला सशक्तीकरण यही है कि देश में पहली बार बेटियां फाइटर प्लेन उड़ा रही हैं। महिला सशक्तीकरण यही है कि देश में पहली बार बेटियां फाइटर प्लेन उड़ा रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *