बांग्लादेश में अवामी लीग की जोरदार जीत, चौथी बार प्रधानमंत्री बनेंगी शेख हसीना

ढाका: बांग्लादेश में शेख हसीना के नेतृत्व वाली पार्टी आवामी लीग ने जोरदार जीत दर्ज कराई है। इस जीत पर बांग्लादेश के विपक्षी एनयूएफ गठबंधन ने आम चुनाव के परिणाम को खारिज कर दिया है और निष्पक्ष कार्यवाहक सरकार के नेतृत्व में फिर से मतदान कराने की मांग की है। आपको बता दें शेख हसीना गोपालगंज-3 निर्वाचन क्षेत्र से एक तरह से निर्विरोध चुनाव जीत गईं हैं।

बांग्लादेश की निवर्तमान प्रधानमंत्री शेख हसीना की पार्टी आवामी लीग रविवार को हुए आम चुनावों में बड़ी जीत दर्ज की। सत्ताधारी पार्टी 300 सदस्यीय सदन में दो तिहाई बहुमत के साथ फिर से सरकार बनाती दिख रही है। इस तरह हसीना के चौथी बार बांग्लादेश की प्रधानमंत्री बनने का रास्ता साफ हो गया है।

बांग्लादेशी मीडिया के मुताबिक, चुनाव आयोग ने सोमवार तड़के चार बजे तक 298 सीटों के नतीजे जारी किए, जिनमें 259 सीटों पर हसीना की पार्टी आवामी लीग ने जीत का परचम लहराया है। वहीं इस चुनाव में आवामी लीग की मुख्य सहयोगी जातीय पार्टी ने 20 सीटें जीती हैं। उधर मुख्य विपक्षी बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (बीएनपी) को इस चुनाव में जबरदस्त नुकसान का सामना करना पड़ा है और उसे महज पांच सीट हासिल हुई हैं।

इस बीच बांग्लादेश के विपक्षी एनयूएफ गठबंधन ने आम चुनाव के परिणाम को खारिज कर दिया है और निष्पक्ष कार्यवाहक सरकार के अंतर्गत फिर से मतदान कराने की मांग की। इस गठबंधन में पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा जिया की बीएनपी के अलावा गोनो फोरम, जातीय समाजतांत्रिक दल-जेएसडी, नागोरिक ओइकिया और कृषक श्रमिक जनता लीग शामिल है।

चुनाव आयोग ने अभी तक केवल एक सीट गोपालगंज के परिणाम की पुष्टि की है। चुनाव आयोग की तरफ से रविवार शाम जारी आंकड़ों के मुताबिक, शेख हसीना गोपालगंज-3 निर्वाचन क्षेत्र से एक तरह से निर्विरोध चुनाव जीत गईं। उन्हें 2,29,539 वोट मिले, जबकि मुख्य प्रतिद्वंद्वी बीएनपी के उम्मीदवार को महज 123 वोट मिल पाए।

चुनाव आयोग ने शाम में आधिकारिक तौर पर हसीना की जीत की घोषणा की। इस सीट से बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी के उम्मीदवार एसएम जिलानी को 123 वोट, इस्लामी आंदोलन बांग्लादेश के उम्मीदवार मारूफ शेख को 71 जबकि बाकी उम्मीदवारों को कुल 14 वोट मिले। चुनाव आयोग के मुताबिक इस सीट पर कुल 2,29,747 वोट पड़े हैं।

बांग्लादेश में रविवार को हुए 300 संसदीय सीटों के लिए हुई वोटिंग के दौरान हिंसा में कम से कम 17 लोगों की मौत हो गई थी। एक स्थानीय अखबार के मुताबिक, चुनाव से जुड़ी हिंसा में एक सुरक्षा कर्मी सहित कम से कम 17 लोगों के मारे जाने की खबर है, वहीं दर्जनों लोगों के घायल होने की भी सूचना है।

खबरों में कहा गया है कि मारे गए लोगों में अधिकतर सत्तारूढ़ पार्टी के कार्यकर्ता थे जबकि अन्य बीएनपी तथा उसके सहयोगी दल के कार्यकर्ता थे। वहीं चुनाव आयोग ने बताया कि रविवार को 300 संसदीय सीटों में से 299 सीटों पर चुनाव हुआ है। एक उम्मीदवार के निधन के कारण एक सीट पर चुनाव नहीं हुआ। इसके लिए 1,848 उम्मीदवार मैदान में थे।

चुनाव आयोग के एक प्रवक्ता ने बताया कि सोमवार सुबह तक गैर आधिकारिक परिणाम आने की उम्मीद है। इन चुनावों में हसीना चौथी बार प्रधानमंत्री बनने के लिए चुनाव लड़ रही हैं, जबकि ढाका जेल में बंद उनकी चिर प्रतिद्वंद्वी और बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (बीएनपी) की प्रमुख खालिदा जिया का भविष्य अधर में लटका नजर आता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *